Bank ma Po kasa Bane puri jankari

बैंक में PO कैसे बने..PO बनने के लिए क्या करे..बैंक पीओ की तैयारी कैसे करे (Bank PO Kaise Bane in Hindi)

बैंक में पीओ कैसे बने.. सरकारी बैंक में पीओ बनने के लिए क्या करे.. बैंक पीओ की तैयारी कैसे करे.. आज हम इस टॉपिक पर बात करने वाले है। कई लोग बैंक में अच्छी पोस्ट प्राप्त करने के लिए जी तोड़ मेहनत करते है और अपनी मनपसंद पोस्ट प्राप्त कर लेते है। बैंक में साधारण से साधारण पोस्ट प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करना पड़ता है। ऐसे में Bank PO की पोस्ट प्राप्त करना क्या आसान होगा..बिल्कुल भी नहीं। इसके लिए तो और भी ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी।

बैंक पीओ क्या है (What is Bank PO)

कई लोगो की इसकी जानकारी बिलकुल भी नहीं होती है, इसलिए हम यहाँ पे बता देते है की Bank PO क्या है, बैंक पीओ क्या होता है। What is a Bank PO in Hindi.

बैंक पीओ जिसे प्रोबेशनरी ऑफिसर (Probationary officer) कहा जाता है। यह पोस्ट बैंक में जूनियर मेनेजर या असिस्टंट मेनेजर की तरह ही होती है। बैंक में 2 साल के पिरेड की प्रोबेशनरी ट्रेनिंग होती उसके बाद उम्मीदवार की रैंक अथवा पोस्ट तय की जाती है। उसके कुछ दिनों बाद उन्हें कुछ स्पेशल पोस्ट के लिए चुना जाता है जैसे.. बैंक के जीएम, चेयरमैन आदि।

बैंक पीओ के लिए शैक्षणिक योग्यता (Educational Qualification for Bank PO)

यदि आप Bank PO exam के अप्लाई करना चाहते है तो आपको किसी भी मान्यताप्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक पास होना अनिवार्य है। चाहे आप किसी भी स्ट्रीम से स्नातक पास क्यों ना हो लेकिन जब तक आप अपना Graduation पूरा नहीं करते तब तक आप बैंक पीओ परीक्षा के अप्लाई नहीं कर सकते।

बैंक पीओ के लिए वयोमर्यादा (Age limit for bank PO) 

पीओ के लिए वयोमर्यादा कम से कम 21 वर्ष और अधिकतम से 30 वर्ष होनी चाहिए। इसके अलावा OBC के लिए 3 साल की छुट और SC ST के लिए 5 साल की छुट रखी गई है।

बैंक पीओ के लिए कैसे अप्लाई करे (How to Apply for Bank PO)

बता दें कि बैंक पीओ की परीक्षा के लिए आप आयबीपीएस (IBPS) के द्वारे अप्लाई कर सकते है। IBPS का फुल फॉर्म है Institute of Banking Personnel Selection !

बैंक पीओ के लिए परीक्षा पैटर्न (Exam pattern for bank PO)

आयबीपीएस (IBPS) के अंतर्गत होने वाली CWE परीक्षा जिसे Common Written Examination कहते है। इस परीक्षा को IBPS 3 पार्ट में करवाता है।
.
1. प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary examination)
2. मुख्य परीक्षा (Main examination)
3. साक्षात्कार (Interview)

.
प्रारंभिक परीक्षा में तीन पेपर होते है जो इस
तरह है :

  • English language
  • Numerical ability
  • Reasoning ability

इन तीनो पेपर की एक साथ एक घंटे की परीक्षा होती है। यह परीक्षा 100 अंक की होती है। यह परीक्षा पास होने के बाद ही आप मुख्य परीक्षा दे सकते है।

 

मुख्य परीक्षा में 5 पेपर होते है जो इस तरह है :
  • Reasoning ability & computer aptitude
  • General economy/Banking awareness
  • English language
  • Data analysis & Interpretation,
  • English language (Letter writing & Easy)

इन पाच पेपर की 3 घंटे की परीक्षा होती है। ध्यान रहे.. अगर आपको किसी प्रश्न का उत्तर नहीं मालुम है तो उसे वैसे ही छोड़ दे क्योंकि यह निगेटिव मार्किंग परीक्षा होती है।

INTERVIEW : अब अन्तः में जो लोग मुख्य परीक्षा पास कर लेते है उन्हें इंटरव्यू में बुलाया जाता है। ये इंटरव्यू अलग अलग बैंकों द्वारा आयबीपीएस की मदद से आयोजीत की जाती है। उसके बाद मुख्य परीक्षा के मार्क और इंटरव्यू के मार्क के आधार पर तय होता है की आपका सिलेक्सन होगा या नहीं।

बैंक में पीओ बनने के लिए इसकी तैयारी कैसे करे (How To Prepare To Become a Bank PO)
.
यदि आप सरकारी या प्राइवेट बैंक में पीओ की नौकरी प्राप्त करना चाहते है तो आपको इसके लिए पहले से ही तैयारी करनी होगी। आप प्लानिंग कीजिये और वन बाय वन स्टेप फॉलो करते जाए –
.
1. प्लानिंग करे.. जिस बैंक की पीओ की जॉब आप हासिल करना चाहते है उस जॉब से रिलेटेड सभी आवश्यक जानकारी आपको कलेक्ट करनी होगी। Education, Syllabus, Exam, Exam patern, Exam time & Other Requirement !
.
2. बैंकिंग की पढाई शुरू करे इसके लिए आप IBPS Book या कोचिंग का सहारा ले सकते है।
.

3. कंप्यूटर स्टडी पर भी फोकस करे.. क्योंकि वर्तमान समय में बिना Computer study के बैंक में चपराशी की भी जॉब नहीं मिल सकती।

4. सेल्फ स्टडी और GK पर भी फोकस करे.. क्योंकि आज के समय में किसी भी क्षेत्र की बात करे तो GK ही सबसे आगे होता है इसलिए GK पर भी फोकस जरुरी है।

5. पुराने प्रश्नपत्रिकाए जमा करे और उनके सभी प्रश्नों को बिना चिट किये हल करे,अगर किसी प्रश्न का उत्तर ना मिले तो इन्टरनेट का सहारा ले।

6. सेल्फ कॉन्फिडेंस बढाए.. परीक्षा के पहले व परीक्षा के दौरान घबराए नहीं और हमेशा एक्टिव रहने का प्रयास करे।

7. तर्कशक्ति बढ़ाने का प्रयास करे.. क्योंकि परीक्षा में आपको confused करने वाले प्रश्नों को सिमित समय में हल करना है।

8. बैंकिंग क्षेत्र में जितना महत्व एकाउंटिंग-गणित को है उतना ही महत्व इंग्लिश को है इसलिए आपको गणित और इंग्लिश को परफेक्ट बनाने का प्रयास करना चाहिए।

Leave a Comment